--> इंजीनियरिंग के वो दिन - कुछ किस्से

इंजीनियरिंग के वो दिन - कुछ किस्से

आज(15 september)* इंजीनियरर्स डे है, भारत रत्न एम्. विश्वेश्वराया के जन्मदिन पे मनाया जाता है ये दिन. एम् विश्वेश्वराया को इंजीनियरिंग में एक विजार्ड, एक जादूगर कहा जाता था. उन्ही के जन्मदिन के अवसर पे सारे इंजीनियरिंग कॉलेज में आज के दिन कई तरह के समारोह होते हैं. हम जब इंजीनियरिंग के पहले सेमेस्टर में थे तब हमें पता चला इस इंजीनियरर्स डे के बारे में, कॉलेज में कोई बड़ा समारोह तो नहीं होता था इस दिन, लेकिन छोटा सा सेलिब्रेशन जरुर होता था. पहले ही सेमेस्टर में एक सीनिअर द्वारा इस इंजीनियरर्स डे के बारे में जानने का मौका लगा. खुशी और बढ़ी जब ये जाना की एम्. विश्वेश्वराया के नाम से ही अपनी यूनिवर्सिटी है, विश्वेश्वराया टेक्नोलोजिकल यूनिवर्सिटी(वी.टी.यु).पुरे कर्नाटक में एक ही मुख्य इंजीनियरिंग यूनिवर्सिटी है, जिससे कर्नाटक के सभी कॉलेज मान्यता प्राप्त हैं.एम् विश्वेश्वराया कर्नाटक के ही थे इसलिए हमारी यूनिवर्सिटी का नाम उनके नाम पे ही रखा गया, उनके सम्मान में.

अब आज इस इंजीनियरर्स डे के अवसर पे अपने इंजीनियरिंग के कुछ पलों को याद करने का हक तो बनता ही है अपना, तो चलिए आपके साथ कुछ ऐसे ही पल बांटता हूँ :)

रैगिंग 

इंजीनियरिंग में दाखिला जब हुआ तो सबसे पहले ख्याल आया "रैगिंग" का. उस समय ज्यादा कुछ पता नहीं था इंजीनियरिंग के बारे में, बस इतना पता था मुझे की इंजीनियरिंग कॉलेज में दाखिला लेना है, क्या होता है इंजीनियरिंग कॉलेज में, इस बात पे बिलकुल अनजान था, थोड़ा बहुत इस रैगिंग के बारे में ही जानता था. पटना में जिस कोचिंग में पढ़ने जाता था, वहां के लड़के जो दिलो-जान से इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा की तय्यारियों में जुटे रहते थे वो भी तरह तरह के रैगिंग के किस्से सुनाते रहते थे, तो एक डर जैसा कुछ अंदर बैठ गया था की पता नहीं रैगिंग में सिनिअर्स क्या क्या करवाएंगे..कुछ लड़कों से ये भी सुन रखा था की कुछ सिनिअर्स बत्तमीजी भी करते हैं जुनिअर्स के साथ..कुल मिलाकार एक डर जैसा ही बैठ गया था दिल में.
पापा मुझे छोड़ने ब्सवकल्याण(जहाँ से हमने इंजीनियरिंग पढ़ी) तक आये थे, जब होस्टल हम लोगों का अलोट हो गया, और जब पापा चले गए वापस तब डर कुछ और बढ़ गया रैगिंग को लेकर.

जिस दिन पापा गए, उसके दूसरे दिन ही मेरी पहली रैगिंग हुई...वो रैगिंग कुछ खास नहीं थी, बस युही एक सीनिअर ने बुलाकर मुझसे इंट्रो(इन्ट्रोडक्शन) लिया था. उस समय तक हमारे बिहारी/नोर्थ के सिनिअर्स छुट्टियाँ बिता के नहीं आये थे, क्यूंकि उनके क्लासेज दस दिन बाद शुरू होने थे, इस कारण कुछ दिनों की हमें राहत मिली थी, इस बीच बस हलकी फुलकी ही रैगिंग होती रही जो बस इंट्रो तक ही सिमित रही. जिस दिन हमारे बिहार के सिनिअर्स के कल्याण(ब्सवकल्याण) आने की शुभ घोषणा हुई, उसी दिन से हमारी असली रैगिंग चालु हो गयी. फिर क्या था हर रात होस्टल के कमरों में सिनिअर्स का घुस आना और सुबह ४-५ बजे तक रैगिंग का कार्यक्रम चलाना एक रूटीन बन गया था जो की ६-७ दिनों तक चलते रहा. रैगिंग के दौरान वैसा कुछ भी नहीं हुआ जैसा मैं सोच के डर रहा था, मजेदार रैगिंग होती थी हमारी...बहुत सुन रखा था की रैगिंग में अभद्र भाषा/हरकतें भी होती हैं, लेकिन हमें कभी वैसा कुछ देखने को नहीं मिला..बस सिनिअर्स की कुछ मनपसंद फरमाइश रहती थी की गाना सुनाओ, चुटकुले सुनाओ, छोटा सा कोई नाटक दिखाओ इत्यादि..

लेकिन कहते हैं न की जहाँ रैगिंग की बात हो वहां कुछ न कुछ तो गडबड होना तय ही होता, वैसा ही हुआ हमारे कॉलेज में भी. एक दिन कुछ सिनिअर्स ने रैगिंग के बहाने कुछ लड़कों की थोड़ी बहुत पिटाई कर दी. फिर क्या था, हमारे बैच में भी काफी गर्म-मिजाज लड़के थे, सबने एक साथ सुर में सुर मिलाया और अगले दिन कॉलेज में स्ट्राइक करने का फैसला लिया. कॉलेज वालों ने जैसा सोचा होगा, उससे लाख गुना भयानक स्ट्राइक हुआ हम लोगों का, कॉलेज वालों और सिनिअर्स भी शायद इस स्ट्राइक से थोड़ा डर सा गए थे, और डरते भी क्यों नहीं, कुछ लड़कों ने ऐसा माहौल ही बना दिया था..सबके माथे पे बड़ा सा लाल टिका लगाया गया, ऐसा लग रहा था की जैसे हम लोग कोई जंग के लिए निकल रहे हों...भयानक शंखनाद हुआ, और हम सब नार्थ इंडियन लड़के(करीब ६०-७०) कॉलेज पहुंचे एक ट्रक में चढ़ के, :P पहले तो यही सीन देख कॉलेज वालों का सर चकरा गया..और फिर हमारे ग्रुप में ऐसे तीन चार लड़के थे जो लीडरगिरी में एक्सपर्ट थे, प्रिंसपल और कॉलेज मैनेजमेंट क्या करते, बस माफ़ी मांग के रह गए और वादा किया की अगर ऐसा कुछ आगे हुआ तो सख्त कारवाई की जायेगी, और अंत में सिनिअर्स और जुनिअर्स का समझौता हुआ. लेकिन इन सब बातों में हम जुनिअर्स जश्न मानते रहे की हमारे आगे सिनिअर्स ने घुटने टेक दिए ;)

[वैसे नोट किया जाए की उनमे से कुछ सिनिअर्स हमारे काफी अच्छे दोस्त भी हैं, जो अभी ये पोस्ट पढ़ भी रहे होंगे ;)]

व्हाईट हाउस होस्टल, बेकरी और अरुण मेस

चौकिये मत इस नाम से, हम लोग वाकई व्हाईट हाउस में रहते थे :P,असल में हमारे होस्टल का नाम था व्हाईट हाउस :). काफी छोटा सा होस्टल था ये, बस १२ लड़के रहते थे, लेकिन जितनी मस्ती इस होस्टल में हमने की, शायद  उतनी मस्ती फिर कहीं नहीं की हमने. एक परिवार सा बन गया था ये होस्टल. एक अटैचमेंट जैसा हो गया था इस होस्टल के साथ. चाहे हो शाम के समय सारे दोस्तों के साथ छत पे बैठना और गप्पे लड़ाना या फिर रात भर नाचना गाना..हर पल में मस्ती थी. शाम के समय सारे लड़के एक साथ निकलते थे बेकरी पे नाश्ता करने.. पता नहीं किन कारणों से हमारे सिनिअर्स ने बेकरी पे जाने के लिए मना कर रखा था, लेकिन हम भी तो उस्ताद जुनिअर्स निकले..सिनिअर्स के आदेश की धज्जियाँ उड़ा के पहुँच जाते थे बेकरी, और वो भी सब लड़के एक साथ..:) सिनिअर्स भी बेचारे क्या करते...बस देख के रह जाते थे :)

कल्याण में हम लोगों का एक हैंग-आउट पॉइंट बना, वो था अरुण मेस. हम वहीँ खाना खाते थे..अरुण उड़ीसा का  था और अरुण मेस का मालिक भी वही था, उससे थोड़े समय में ही दोस्ती हो गयी..नोर्थ इंडियन जैसा कुछ खाना मिलता था वहां, इसलिए हम लोग वहां चले जाते थे खाने. अरुण मेस के सामने खाली जगह थी, जहाँ २-३ टेबल लगे रहते थे, शाम के समय उन टेबलों पे हमारा कब्ज़ा रहता था. करीब शाम ५-६ बजे ही सब दोस्त वहां जुट जाते थे और महफ़िल सज जाती थी. उन दिनों हम फर्स्ट इयर में ही थे, और बेपरवाह, आज़ादी से सड़ेआम हम अपनी महफ़िल सजाय रहते थे...सिनिअर्स जब ये देखते होंगे की हम कैसे इतने बेपरवाह रहते हैं, उन्हें अटकता तो जरुर होगा लेकिन हमने कभी इस बात की परवाह नहीं की, की  सिनिअर्स हमें इस तरह देख क्या बोलेंगे..और ना कभी सिनिअर्स ने हमें टोका.

टी.वी सेट और वी.सी.डी प्लयेर इन होस्टल

हम लोगों का होस्टल वैसा कुछ हाई फाई नहीं था, ना ही कोई टी.वी था और ना ही कुछ मनोरंजन का दूसरा साधन. मेरे पास एक टू-इन-वन था, जो मैं पटना से लेकर आया था, और कुछ कैसेट..बस दिल लगाने के लिए यही साधन था हमारे पास. चुकीं पुरे होस्टल में सिर्फ मेरे पास ही टू-इन-वन था, तो सारे लड़के मेरे इसी टू-इन-वन के धुनों पे नाचते रहते थे :). फिर एक दिन कुछ सिनिअर्स से पता चला की होस्टल में टी.वी भाड़े पे लाकर हम लोग फिल्म देख सकते हैं, बशर्ते वार्डेन को पता नहीं चले..हम लोगों के जो होस्टल वार्डेन थे, वो होस्टल में रहते नहीं थे, बस हर रात दस बजे के लगभग एक बार इन्स्पेक्सन के लिए आते थे..अब जब भी हमें फिल्म देखने का दिल करता, जो की हफ्ते में एक बार तो कर ही जाता था.तो सबसे पहले पैसे कलेक्ट होते थे.. प्रत्येक लड़के १० रुपये देते थे और फिर एक दिन के लिए टी.वी और वी.सी.डी आता था भाड़े पे..उन दिनों वी.सी.डी का बहुत ज्यादा प्रचलन नहीं था..तो बहुत से लड़कों को तो ओपरेट करना ही नहीं आता था. एक लड़के को खास जिम्मेदारी दी जाती थी की टी.वी का रिमोट और वी.सी.डी का रिमोट वही संभाले..अब जब चौबीस घंटे के लिए भाड़े पे टी.वी आता था तो हम इस बात का पूरा धयान रखते थे की एक भी मिनट बेकार नहीं जाए ;) मानिए अगर शाम के सात बजे टी.वी आया, तो शो टाइमिंग होता था रात के नौ-दस बजे से सुबह के पांच-छः बजे तक, और फिर सुबह नौ बजे से शाम पांच-सात बजे तक..

होस्टल में वैसे तो टी.वी लाने की अनुमति नहीं थी, लेकिन हम ले ही आते थे टी.वी...चाहे क्रिकेट मैच देखना हो या फिर फ़िल्में देखना, टी.वी हफ्ते में एक बार आना तो तय ही रहता था. होस्टल वार्डेन को भी पता रहता ही था की हम टी.वी लाते थे, फिर भी वो कुछ नहीं बोलते थे.

तीन कम्पुटर एक हॉस्टल में, 

मेरा कम्पूटर
इंजीनियरिंग के पहले साल तो हम व्हाईट हाउस में रहे.व्हाईट हाउस होस्टल हमें कॉलेज के तरफ से अलोट हुआ था, और कॉलेज के होस्टल सिमित थे, इसलिए सेकेंड इयर में हमें अपने लिए एक नया होस्टल या फिर फ़्लैट खोजना था, तब तक हमारे ग्रुप में २-३ और लड़के आ गए थे और हम कुल १६ लड़के हो गए थे, बड़ी मशक्कत के बाद हमने एक फ़्लैट मिला किराये पे..असल में पूरी बिल्डिंग ही हमने ली थी..अगर ग्राउंड फ्लोर को छोर दें तो..ग्राउंड फ्लोर के अलावा दो और फ्लोर थे. इस बिल्डिंग का नाम वैसे तो कुछ नहीं था, लेकिन पता नहीं कैसे,किसने,कब रखा इस बिल्डिंग का नाम -"पिंक हाउस".

अब हम सेकण्ड इयर में आ चुके थे, और पिंक हाउस में भी अपनी जगह पक्की हो गयी थी, अब समय था एक कम्पुटर लेने का.वैसे तो इंजीनियरिंग में पैरेंट्स बच्चों को ये सोच कम्पूटर खरीद देते हैं, की बच्चे कम्पूटर का इस्तेमाल पढ़ाई में करेंगे, और कुछ प्रोग्रामिंग सीखेंगे, कुछ नया जानेंगे...लेकिन इंजीनियरिंग में कितने लड़के कम्पुटर का सही इस्तेमाल(पढ़ाई में) और कितने लड़के कम्पुटर का इस्तेमाल गेम खेलने, फ़िल्में देखने में करते हैं, ये तो सभी को पता है..:) हम लोगों में से तीन लड़कों को कम्पुटर खरीदना था, एक तो मुझे, और बाकी दो थे समित, आशीष. जब हमने कम्पुटर खरीदी, उसके बाद तो हमारे फ़्लैट में जैसे लड़कों का तांता लग गया.
हम तीनो एक ही फ़्लैट में रहते थे और एक ही फ़्लैट के तीन ब्लोक में तीन कम्पुटर. अब तो शुरुआत के १०-१२ दिन ऐसा होने लगा की बाकी दोस्त जो दूसरे फ्लैट्स में रहते थे, वो भी दिन भर हम लोगों के ब्लाक में ही अपना समय गुजारने लगे..या तो गेम खेलने में या फिर फिल्म देखने में..कभी कभी तो ऐसा होता था की एक दोस्त कम्पुटर पे गेम खेल रहा है तो दूसरा उसके पीछे खड़ा है, इस इंतज़ार में की वो उठे तो उसे गेम खेलने मिले .. :)

जिस दिन कोई नयी फिल्म की वी.सी.डी आती थी मार्केट में, उस दिन तो हमारे कमरे में पांव रखने तक की जगह नहीं रहती थी..सबके सब मौजूद रहते थे फिल्म देखने के लिए..और दोस्तों की ऐसी भीड़ में फिल्म देखने का मजा ही कुछ और होता था.

ऐसे ही कई छोटे बड़े किस्से हैं इंजीनियरिंग के, जिनमे से कुछ किस्सों का जिक्र मैंने यहाँ इस पोस्ट में किया है. फ़िलहाल अगर ये पोस्ट आप लोगों को पसंद आई, तो बाकी की दो किस्तें भी इसके बाद आएँगी....


उन दिनों हमारे पास कैमरा था नहीं, इसलिए इंजीनियरिंग फर्स्ट इयर की एक भी तस्वीर नहीं है, और इंजीनियरिंग सेकण्ड इयर की कुछ ही तस्वीरें हैं, जो की मैंने अभी तक स्कैन नहीं की हैं...इसलिए कोई भी तस्वीर इस पोस्ट में मैंने लगाया नहीं है..


[ * नोट : ये पोस्ट मैंने कल ही लिखा था, लेकिन पता नहीं क्यों पोस्ट नहीं हो पा रहा था. इसलिए आज पोस्ट कर रहा हूँ और ये तारीख भी नहीं बदल रहा]

COMMENTS

BLOGGER: 27
  1. dekho tum white house men rehte the..mujhe pata ab chaalaa :D
    waise film dekhte rehte the islie padhai nai karte the kyaa :D
    chalo kuch bhi karo..mujhe to maja aaya post padh ke...
    and yeaa m waiting for 2nd post..

    ReplyDelete
  2. one more thing..tumse kya kya karwayen tumhare seniorz yeh to tumne detail diya hi nahi :D not fair :)

    n thankz for information on M.visveswarai..
    mujhe pata nahi tha unke baare mein.

    ReplyDelete
  3. रोचक और दिलचस्प संस्मरण और जानकारी.

    ReplyDelete
  4. हम इंजीनियरिंग वालो के दिन ही कुछ खास होते हैं...मज़ा आया आपके बीते दिनों को जानकर ...अभियंता दिवस की शुभकामनाये ..

    ReplyDelete
  5. अच्छी पोस्ट है !!!!
    और दोनों series भी जल्दी ही पोस्ट करना plzz..

    loved this one! :)

    ReplyDelete
  6. अले वाह, कित्ती सुन्दर जानकारी ..बधाई. और आप तो खूब मस्ती करते थे ...

    _____________________________
    'पाखी की दुनिया' - बच्चों के ब्लॉगस की चर्चा 'हिंदुस्तान' अख़बार में भी.

    ReplyDelete
  7. masti bhare din ki ye post bahut rochak aur mazedaar lagi...

    agli dono kisto ka intjaar rahega...

    ReplyDelete
  8. रोचक संस्मरण.

    यहाँ भी पधारें:-
    अकेला कलम...

    ReplyDelete
  9. हम्म अब होस्टल तो होस्टल ही होता है मस्ती से भरपूर ..पर हाँ रेगिंग तो अपनी गोल कर गए तुम :) चलो कोई बात नहीं ,अब जल्दी जल्दी दूसरी किश्त डालो .
    इसे पढकर मजा आया बहुत.

    ReplyDelete
  10. अरे क्या लिख दिया आपने हमें तो अल्ल्हाबाद याद आई गवा. वहां हम लोग भी लोग में ऐसे ही किराये पर टीवी विसियार लाकर फ़िल्में देखते थे.बहुत सी फ़िल्में मेरी वहीं की देखि हुईं हैं हाँ टाइमिंग भी काफी मिलती जुलती है,और १० १० रूपये का कलेक्शन भी सेम तरीके से ही होता था.....अगली पोस्ट का इन्तेजार रहेगा बेसब्री से................

    ReplyDelete
  11. रे बच्चा लाल ....तो ई था कुल मिला कर तुम्हरे बिगडने का पूरा दास्तान ..शुरुए से ....एक लंबर के बदमाश रहे हो ..अच्छा अच्छा वीसीडी ..आउर फ़िल्लम भी ..व्हाईट हाऊस में इत्ती सारी रंगीन बातें ....।

    हैप्पी इंजिनियर्स डे...बड्डी....

    ReplyDelete
  12. कॉलेज के दिन बहुत याद आते हैं। मस्ती में डूबे वर्ष।

    ReplyDelete
  13. college ki yaadein taaza ho gaye!

    ReplyDelete
  14. haan yar ye baat to hai...white house me bahut maza kiya....wo hostel hi kuch jaan dar tha..aur subse sepcial to uss hostel k piche wo ladki....naam yaad nai aa raha hai...pura ka pura hostl hi ek saath subah k 7 baje khada ho jata tha usko dekhne k leye....aur ragging k bare me v batao..kaise hum log tum log ka ragging leye tha.kaise tum log senior's pledge yaad kiye the.. :-)

    ReplyDelete
  15. मेरी भी यादें ताज़ा हुईं!
    अच्छी पोस्ट!
    आशीष
    --
    बैचलर पोहा!!!

    ReplyDelete
  16. अभी ईद के मौके पर एक मित्र के घर जाना हुआ.. उसने मुझसे कहा कि "यार, मेरा लैपटॉप पर ब्लू स्क्रीन आता है और शटडाउन हो हो जाता है.. तुम क्या कहते हो, क्या प्रॉब्लम है? क्या करूँ?"

    मैंने कहा, "ब्लू फ़िल्म ज्यादा देखोगे तो यही होगा.. ब्लू स्क्रीन ही आएगा हमेशा.. और ऊपर से रमजान के पाक महीने में.. छी छी.."


    वैसे वीसीपी पर तुम क्या देखते थे दोस्त? होस्टल के किस्से हमें भी पता है, हमने भी कई साल बिताया है होस्टल में.. सो हमसे झूठ मत ही बोलना.. :)

    ReplyDelete

  17. बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई !

    आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें

    ReplyDelete
  18. @प्रशांत...

    थोड़ा शांत रहो तुम...हम तुम्हारे जैसे गंदे बच्चे नहीं हैं, :P :P

    ReplyDelete
  19. अच्छा तो में वी.टी.यू चुके भाईजान आपको पता नहीं था..चलो कोई बात नहीं अब धन्यवाद बोल ही दो..

    ReplyDelete
  20. अच्छी पोस्ट!........

    कोई बात नही अगर आप लस्सी नही पीते.....
    एक बार पीकर तो देख ना......बार -बार
    पीयोगे.
    मेरे ब्लोग पर आने के लिये शुक्रिया ......

    ReplyDelete
  21. बड़े मजेदार किस्से हैं,हॉस्टल के...ये वे सुनहरे दिन हैं जो वापस कभी नहीं आते.
    ऐसे संस्मरण पढ़ बहुत ही मजा आता है और तुमने हमेशा की तरह बहुत सहजता के साथ लिखा है.

    ReplyDelete
  22. आज आपका ब्लॉग चर्चा मंच की शोभा बढ़ा रहा है.. आप भी देखना चाहेंगे ना? आइये यहाँ- http://charchamanch.blogspot.com/2010/09/blog-post_6216.html

    ReplyDelete
  23. वाह भई वाह होस्टल में हम कभी रहे नहीं, परंतु होस्टल में हमने बहुत दिन बिताये हैं, सारे चलचित्र बरबस ही सामने आ गये।

    खूब मजे किये हैं.... अभि ..

    ReplyDelete
  24. .........यादें ताज़ा हुईं!

    ReplyDelete
  25. बहुत मज़ा आया पढ़ के...लेकिन बेट्टा...बात तो सही है...अपनी काफी बातें गोल कर गये तुम...है न...??? :) :P

    ReplyDelete
आप सब का तहे दिल से शुक्रिया मेरे ब्लॉग पे आने के लिए और टिप्पणियां देने के लिए..कृपया जो कमी है मेरे इस ब्लॉग में मुझे बताएं..आपके सुझावों का इंतज़ार रहेगा...टिप्पणी देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद..शुक्रिया

Name

A Beautiful Day,17,Audio-Video,12,Ayaansh,3,Bachpan,1,Beautiful Winters,1,Birthdays,1,Blogging,1,Book-Fair,1,College Notes,10,Comments,3,Cycling,2,Delhi Diaries,4,Diary,102,Dobby,1,Durga Puja,1,Durga Puja in New Delhi,1,English Talks,1,Evening Diary,3,Family Notes,32,Flight Stories,1,Friendship Day,1,Good Times,1,Gulzar,3,Heros of India,3,Hobbies,1,Lockdown Diaries,10,My Poems,7,NightOut,3,Nikky,9,Nimisha,8,Nimisha Ki Shaadi,1,Nostalgic Memories,27,Patna Diaries,6,Photo-Gallery,14,Random,16,Togetherness,1,Train Notes,1,अकरम,6,अच्छी बातें,1,अच्छे लोग,11,अमृतसर यात्रा,2,अवि,2,आलेख,4,आशीष भारती,1,इंजीनियरिंग के वे दिन,7,इंटरनेट,2,ऋचा,9,कवितायेँ,7,कहानियां,1,कहानी,1,कार-प्रेम,2,किताबें,1,कुछ पुरानी यादें,24,कुछ पुरानी यादों के नशे में,29,कैफी आज़मी,2,कॉलेज,3,क्रिकेट,2,क्रिकेट वर्ल्ड कप,2,क्लूनी..पिएर्स और अर्नोल्ड,3,गज़ल,4,ग़ालिब,3,गाँव,1,गुलज़ार साहब,3,घूमना फिरना,10,चित्रगुप्त पूजा,1,छठ पूजा,1,जगजीत सिंह,2,जन्मदिन,4,जलियाँवाला बाग,1,टेक्नोलोजी,2,ट्रेन यात्रा,6,तुमसे बना मेरा जीवन,5,त्यौहार,4,दादाजी,1,दिल्ली,2,दिवाली,1,दीप्ति,4,दुर्गा पूजा,1,दोस्तों की दादागिरी,5,निमिषा,6,पटना,41,पन्द्रह अगस्त,2,परिवार,25,परिवार और मित्र,2,पापा-मम्मी,2,पुराने दिन,10,पेंटिंग,1,प्रभात,5,प्रशांत,2,प्रियंका दीदी,3,फराज़,1,फ़िल्मी बातें,4,फेसबुक,2,बच्चों की दुनिया,2,बहन की बातें,14,बेतरतीब ख्याल,28,बेमतलब-लोग,1,बैंगलोर,19,बैंगलोर डायरी,6,ब्लॉग-परिवार,6,ब्सवकल्याण,9,ब्सवकल्याण के किस्से,10,भगत सिंह,2,भगत सिंह के पत्र,1,भाई बहन,4,मती,2,मंदिर,3,मस्ती टाईम,13,माँ,1,माइक्रो पोस्ट,3,माही,1,मुराद,1,मेरा परिचय,1,मेरा शहर बैंगलोर,4,मेरी कविता,6,मेरी डायरी,100,मेरी बहन,12,मेरे अप्लोड्स,3,मेरे दोस्त,37,मेरे विचार,5,मोना,3,मोना की शादी,4,रिया,1,रीती,1,लखनऊ,1,लेखक,1,वरुण,1,संकलित-पत्र,1,सगाई,1,समित,4,सलिल चचा,1,सिंघौल,1,स्तुति,1,स्पोर्ट्स,2,हम-हिन्दी,2,हरिवंशराय बच्चन,1,हंसी-मजाक,3,हाइकू,1,हैदराबाद,2,हॉस्टल के दिन,1,
ltr
item
मेरी बातें : इंजीनियरिंग के वो दिन - कुछ किस्से
इंजीनियरिंग के वो दिन - कुछ किस्से
http://4.bp.blogspot.com/_k2uBsBPA3NY/TJFOIJVE4xI/AAAAAAAABz4/fV4-KgBT5Y8/s320/visweraya-t-u.jpg
http://4.bp.blogspot.com/_k2uBsBPA3NY/TJFOIJVE4xI/AAAAAAAABz4/fV4-KgBT5Y8/s72-c/visweraya-t-u.jpg
मेरी बातें
https://www.abhishek.cyou/2010/09/blog-post_15.html
https://www.abhishek.cyou/
https://www.abhishek.cyou/
https://www.abhishek.cyou/2010/09/blog-post_15.html
true
174319125135752653
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy Table of Content