--> सम मोस्ट इरिटेटिंग जर्नीज़

सम मोस्ट इरिटेटिंग जर्नीज़

मेरी पहली ट्रेन यात्रा कब हुई ये तो याद भी नहीं, लेकिन लंबी दुरी की पहली ट्रेन यात्रा 2002 के मई महीने में हुई थी, जब मैं इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा देने पहली बार बैंगलोर गया था.ये मेरे लिए पहला ऐसा मौका था जब मुझे दो दिन ट्रेन में सफर करना पड़ा और सच पूछिए तो ये अनुभव मेरे लिए बड़ा ही अलग-सा और मनोरंजक रहा था.बाद में मेरा दाखिला भी कर्नाटक के एक कॉलेज में हुआ और फिर इंजीनियरिंग के बाद बैंगलोर में ही रहना हुआ.पहली बार बैंगलोर जाने से लेकर अब तक मुझे याद भी नहीं कितने दफा मैंने लंबी यात्राएं की होगी.लेकिन अगर यादगार सफर याद करने बैठूं तो इन दस सालों में गिने चुने दस-पन्द्रह ही ऐसे सफर होंगे जो सच में यादगार थे.यादगार सफर की एक पोस्ट बहुत पहले लिखी थी.कुछ दिलचस्प वाकये और हैं जिन्हें जल्द ही लिखूंगा.बाकी सफर बड़े बोरिंग टाईप के थे, जिन्हें बोरिंग बनाने का पूरा श्रेय जाता है मेरे साथ सफर कर रहे आसपास के सह-यात्रियों को.स्लीपर से लेकर टू-ए.सी तक, हर जगह हर टाईप के अजीबो-गरीब लोगों से सामना हुआ है मेरा.कभी कभी तो मुझे ये भी लगता है कि कहीं रेलवे कर्मचारियों को मेरे से या मेरे नाम से कोई दुश्मनी तो नहीं..कहीं ऐसा तो नहीं कि मेरा नाम देखा नहीं लिस्ट में कि मुझे एकदम बेकार से कम्पार्टमेंट में सीट दे दी.एक दफे जब मैं बैंगलोर से पटना आ रहा था तो सी-ऑफ करते वक्त मेरे दोस्त मनीष सर ने कहा मुझसे "जाओ ऐश करो, देखना आसपास अच्छी अच्छी लड़कियां होंगी, सफर मजे से कटेगा".मैंने उनसे कहा, इतना तो मुझे यकीन है कि ऐसा कुछ नहीं होने वाला, और आसपास बेकार किस्म के लोग ही मिलेंगे.मेरा वो यकीन सही निकला था.

यूँ तो ऐसे बहुत से वाकये हैं जब मैं ट्रेन-सफर में बुरी तरह इरिटेट हो चूका हूँ, लेकिन कुछ गिने चुने सफर जो मुझे याद हैं का यहाँ जिक्र कर रहा हूँ.

सीन : 1
दिल्ली टू पटना,गरीबरथ एक्सप्रेस
फरवरी 2012

मेरी रिजर्वेशन गरीब रथ से थी.और गरीबरथ में अब तक साईड में तीन बर्थ हैं(जिन्हें बहुत पहले सभी ट्रेनों से हटा दिया गया था).मैंने अपने बर्थ-प्रेफरन्स में साईड लोअर दे रखा था.जब अपने सीट पे पहुंचा तो देखा कि कम्पार्टमेंट में आठ के बजाये नौ बर्थ हैं और मेरा बर्थ नम्बेर साईड लोअर न हो कर साईड मिडिल है.मैं परेशान हो गया, ये साईड मिडिल सबसे बेकार सीट होती है.बुझे मन से अपने सीट पे जाकर बैठ गया.कुछ देर बाद किसी से सुना कि सबके सिटिंग अरेन्ज्मन्ट बदल गए हैं.मैंने जल्दी से बाहर जाकर लिस्ट में अपना पी.एन.आर चेक किया.देखा तो दिल खुश हो गया,मेरी भी सीट दूसरे कम्पार्टमेंट में कर दी गयी थी, और वो लोअर सीट थी.मैं जाकर अपने सीट पे बैठ गया.आसपास अच्छे अच्छे लोग दिख रहे थे.

कुछ देर बाद एक महाशय अपनी माँ को छोड़ने आयें.उन्हें कहा गया कि भाई-साहब, सिटिंग अरेन्ज्मन्ट बदल गयी है, आप अपना नाम लिस्ट में जाकर देख लीजिए.बस ये कहना था और इस छोटी सी बात पर आग-बबूला हो गए.कहने लगे, कि लिस्ट से क्या होता है, मेरे टिकट पर जो बर्थ अलोटेड है उसी पे बैठेंगे.एक व्यक्ति ने बड़े विनम्रता से उनसे कहा, कि भाई-साहब आप तो अपनी माँ को छोड़ने यहाँ आये हैं, और बाद टी-टी अगर आया और इन्हें सीट बदलने को कहा तो इन्हें ही कष्ट होगा, बेहतर है कि आप जाकर लिस्ट में नाम देख ही लें.महाशय अब बिलकुल क्रोधित हो गए थे और चिल्ला चिल्ला कर कहने लगे, टी-टी के कहने से क्या होता है, ये यहीं बैठेंगी, टिकट पर जो बर्थ आलोटेड है उसी पर.किसी ने आगे महाशय से बहस नहीं की.पास बैठे एक सह-यात्री ने मुझसे कहा, देखिये इन्ही जैसे पढ़े लिखे इल-मैनर्ड बिहारी लोगों के वजह से बाकी लोग बदनाम होते हैं.अंत में जब टी-टी आया तो महाशय की माँ को सीट बदलनी ही पड़ी और उनका सामान दूसरे बर्थ पे पहुँचाने में भी उन्ही सज्जन ने मदद की, जिनसे वो महाशय उलझ गए थे.

इसी एक वाकये के वजह से मेरा ये पोस्ट लिखने का मन उसी समय बना था.

सीन : 2
कर्णाटक एक्सप्रेस, बैंगलोर टू न्यू दिल्ली
जनवरी 2010

मैं अपनी बहन के साथ घर जा रहा.सामान काफी था हमारे पास, तो राहुल और मनीष सर हमें सी-ऑफ करने स्टेशन आये हुए थे.मनीष सर ने रिजर्वेशन लिस्ट देखा और कहा, देखो F25 और F27 है तुम्हारे आसपास, जाओ जाकर मजे करो.मजा काहे का,हमारी दो सीट थी और बाकी की सीट पूरी एक फैमली की थी.पुरे रास्ते इतना शोर मचाया उन लोगों ने कि दो तीन दफे टी-टी को आकार उन्हें शांत रहने को कहना पड़ा.पुरे कम्पार्टमेंट को तो उनलोगों ने कचरे का डब्बा बना दिया था, और चीज़ें ऐसे फैलाये हुए थे कि नीचे बर्थ पे बैठना नामुमकिन था.मेरी बहन और मेरी सीट दोनों ऊपर वाली थी.हम दोनों दिल्ली पहुँचने तक अपने अपर-बर्थ पे ही रहे.दिल्ली पहुँचते ही मेरी बहन ने कहा, इन्ही सब जैसे लोगों के कारण मुझे अब दिल्ली और यहाँ के लोग पसंद नहीं आते.

सीन : 3
राजधानी एक्सप्रेस, न्यू दिल्ली टू बैंगलोर
नवंबर 2011

निजामुद्दीन स्टेशन से बैंगलोर के लिए राजधानी एक्सप्रेस करीब सात घंटे लेट थी.कम्पार्टमेंट में किसी कॉलेज के छात्र-छात्राएं भरे हुए थे.शायद किसी ट्रिप पे बैंगलोर जा रहे थे.सबने अपने तरह तरह की फरमाईशों से राजधानी के सभी स्टाफों के नाक में दम कर दिया.एक एक व्यक्ति जबरदस्ती तीन-तीन आइसक्रीम के लिए स्टाफ से बहस करने लगे.उनके साथ एक व्यक्ति भी सफर कर रहे थे.देखने से बड़े भले परिवार के लग रहे थे, वो इन बच्चों को रोकने और डांटने के बाजए,खुद तरह तरह की फरमाईश कर रहे थे.सुबह के नाश्ते से लेकर टोमाटो सूप से डिनर तक, हर कुछ में इन्हें एक्स्ट्रा चाहिए होता था.हद से ज्यादा हंगामा किये हुए थे.किस्मत से मेरी साईड वाली बर्थ थी, तो मैं पुरे रास्ते हेडफोन लगा कर लैपटॉप पे फ़िल्में देखता रहा.जब अंत में स्टाफ बख्शीश मांगने आये, तो उन्होंने ये कह के भगा दिया, की सर्विस तो अच्छी देते नहीं और बख्शीश चाहिए.

सीन : 4
सिकंदराबाद से हावड़ा, फलकनुमा एक्सप्रेस
2005

बहुत से मित्र एक साथ सफर कर रहे थे.मेरी सीट बोगी के पहले कम्पार्टमेंट में ही थी.सामने एक नव-विवाहित जोड़ी बैठे हुए थे.पुरे रास्ते वो अपने प्यार को पब्लिकली बेशर्मों की तरह दिखाते रहे.मेरे बाकी साथियों की सीट अलग अलग कम्पार्टमेंट और अलग अलग डिब्बों में थी, लेकिन वो सभी इन दो कपल के प्रेम-सीन को देखने गेट पे जमा हो जाते थे.साईड वाले बर्थ पे एक परिवार भी था, और वो भी दोनों के इस तरह के बर्ताव से बड़ा अन-कम्फर्टेबल महसूस कर रहा था.दूसरे कॉलेज के लड़के भी उसी ट्रेन से सफर कर रहे थे, और आते जाते कुछ न कुछ कमेन्ट ठोक के ही जाते थे, लेकिन फिर भी दोनों मियां-बीबी को कुछ फर्क नहीं पड़ा और पुरे रास्ते उनका पब्लिक-रोमांस चलता रहा जो बाद में अपनी हदें कुछ ज्यादा ही पार कर चूका था.

सीन : 5
पटना से सिकंदराबाद

उन दिनों अमूमन मैं अपने कॉलेज के साथियों के साथ ही सफर करता था, लेकिन घर पे कुछ जरूरी काम से मुझे अकेले पटना जाना पड़ा था.मैं स्लीपर क्लास में सफर कर रहा था.सामने दो व्यक्ति बैठे थे.दोनों हैदराबाद के किसी कंपनी में काम करते थे और संभवतः दोनों ही कंप्यूटर इंजिनियर थे.दोनों ने पता नहीं किस कॉलेज से और कैसी किताबों से कंप्यूटर पढ़ा था.पुरे रास्ते वो अपने अजीबो-गरीब थेओरी एक दूसरे के सामने रख रहे थे.कुछ ऐसे विषय हैं की जिनपर अगर कोई गलत बात होती है तो वो बातें मेरे से बिलकुल बर्दाश्त नहीं होती.उनमे से एक विषय कंप्यूटर है और दूसरा फ़िल्में.ऐसा नहीं की मैं इन दोनों विषयों में कोई बहुत बड़ा एक्सपर्ट हूँ, बस ये की बिना-लॉजिक की बातें मुझसे बर्दाश्त नहीं होती.कुछ देर में उन्होंने फिल्मों का भी जिक्र कर दिया और उनकी बातें इस तरह से बेमतलब और बेफिजूल होने लगी की मैं चुपचाप अपने साईड अपर वाले बर्थ पे जाकर सो गया..फिर भी कानों में उनकी फ़ालतू के बकवास सुनाई दे जाते थे, और मैं यही प्रार्थना करता था की कब ये सफ़र खत्म हो और इन दोनों की बकवास से मुझे आज़ादी मिले.

सीन : 6
पटना से न्यू दिल्ली,विक्रमशिला एक्सप्रेस
2011

विक्रमशिला एक्सप्रेस दो घंटे लेट थी.और एक महाशय जो कि पुरे रास्ते आसपास वाले लोगों में अपनी बड़ी बड़ी पहचान और पहुँच का रौब झाड़ते रहे,वो ट्रेन के दो घंटे लेट हो जाने से इस तरह बौखला गए की देश की उनके लिए जनसँख्या से लेकर भ्रष्टाचार तक, हर कुछ का जिम्मेदार ये विक्रमशिला एक्सप्रेस और उसके सभी कर्मचारी हो गए.ट्रेन की चाय का दाम पांच रुपया है, ये सभी जानते हैं लेकिन वो महाशय तीन रुपये की चाय पीना चाहते थे और बस इस छोटी सी बात की वजह से पुरे पैंट्री कार वालों से दो घंटे बहस करते रहे.जब रात में खाना आया तो उसपे बहस अलग से.हद तो तब हो गयी जब उन्होंने अटेंडेंट से एक एक्स्ट्रा तकिया माँगा और उसने कहा की अभी कोई भी एक्स्ट्रा तकिया उपलब्ध नहीं है.फिर क्या था, महाशय जी दो घंटे तक जोर जोर से उस अटेंडेंट से बहस करते रहे,टी-टी से लेकर पैंट्री कार वाले, सभी उन्हें शांत कराने की कोशिश कर रहे थे, अटेंडेंट बेचारा दूसरे बोगी से उन्हें एक एक्स्ट्रा तकिया लाकर दिया भी,लेकिन फिर भी महाशय जी शांत नहीं हुए.दो घंटे पुरे बोगी को बेतरह परेसान करने के बाद भुनभुनाते हुए अपने बर्थ पे चले गए और खर्राटे लेकर सो गए.सुबह फिर से उनका नाटक शुरू, और बाकी सभी परेसान.

सीन : 7
हावड़ा से पटना,दानापुर-हावड़ा एक्सप्रेस

दरअसल ये सफर इरीटेटिंग कम और मनोरंजक ज्यदा था.अब याद करता हूँ तो हंसी ही आती है, लेकिन सफर में मैं बुरी तरह चिढ़ गया था, अपने एक अच्छे दोस्त सौरभ बाबु के ही बर्ताव से, और सफर को इरिटेटिंग बनाने का पूरा श्रेय उसी को जाता है.हम पहले फलकनुमा एक्सप्रेस से हावड़ा तक आये.फलकनुमा में एक सुन्दर सी लड़की थी, जिसपर मेरे सभी दोस्तों का दिल आ गया था.दानापुर-हावड़ा एक्सप्रेस में उस लड़की का सीट ठीक हमारे सामने वाला था.सौरभ बाबु के खुशी का तो ठिकाना भी नहीं था.वो लड़की अपने पिता के साथ सफर कर रही थी, और पता नहीं सौरभ बाबु का कौन सा जादू चला कि वो लड़की भी सौरभ के तरफ आकर्षित हो गयी.दोनों लोअर बर्थ लड़की और उसके पिता का था.दोनों आमने सामने थे.लड़की के ठीक ऊपर वाले मिडल बर्थ पर सौरभ बाबु थे, और उसके ऊपर वाले बर्थ पे था अकरम.मैं अकरम के सामने वाले अपर बर्थ पे था.जब सब सो चुके तब सौरभ बाबु और उस लड़की की बात, जो पहले आँखों और इशारों से शुरू हुई, वो इतनी बढ़ चुकी थी की दोनों एक दूसरे का हाथ पकडे हुए थे.मेरी हालत ऐसी कि कभी मैं इन दोनों को देखता तो कभी लड़की के पिता को, जो गहरी नींद में सोये हुए थे.मैंने दो बार सौरभ को इशारों से कहा, ठीक से रहो, लेकिन वो कहाँ सुनने वाला था.अकरम ने मुझसे कहा, रहने दो यार वो पागल हो गया है, खुद भी पिटेगा, हमें भी पिटवाएगा.पूरी रात उन दोनों का ये एंगल चलता रहा.मुझे सबसे बड़ी चिंता थी कि कहीं लड़की के पिता जाग जायेंगे तो क्या होगा.रात भी बहुत हो गयी थी और आख़िरकार मैंने फैसला किया,कि अगर लड़की के पिता जाग गए और सौरभ बाबु को लगे पीटने, तो मैं भी ऊपर से दो तीन हाथ जमा के कहूँगा - ट्रेन में लड़की पटाता है, नालायक. लेकिन सौरभ बाबु की किस्मत अच्छी थी ऐसा कुछ हुआ नहीं...हाँ, अकरम इतना इरिटेट जरूर हो गया था की उसी वक़्त ऊपर से उसने एक लात सौरभ बाबु को दे मारा और कहा, थोड़ा ढंग से रहा करो.


इस तरह के कई इरिटेटिंग वाकये हैं,अगर आपके पास भी ऐसा कोई इक्स्पिरिएंस हैं तो शेयर करें :) 

COMMENTS

BLOGGER: 15
  1. यार इस तरह के हादसे तो लगभग हर किसी के साथ होते रहते है , मेरे साथ भी हुए है ... पर माफ़ करना इतनी अच्छी तरह से याद कुछ भी नहीं सो सिर्फ़ तुम्हारे ही अनुभव पढ़ का मज़े ले लिए !

    ReplyDelete
  2. many such irritating incidents, in fact, similar ones, have been experienced by me too while I used to travel from jamshedpur to varanasi... through the six years of my graduation and post graduation studies @ B.H.U.

    It is the same as life is... 'a long headache in a noisy street', which is only, at times, interspersed with melodies!

    ReplyDelete
  3. कुछ खट्टे कुछ मीठे अनुभव .......रोचक ढंग से लिख डाले सारे वाकये.....

    ReplyDelete
  4. रेलवे के साथ गहरा सम्बन्ध होते हुए और इतने रेल के सफर में इतने सारे वाकये हैं कि कया कहें.. दरअसल ट्रेन का डिब्बा अपने आप में एक पूरी दुनिया होता है और इसमें भांति-भांति के लोग पाए जाते हैं.. घटनाएं जो तुमने लिखी हैं वो कमोबेश हमारे साथ भी हुई हैं, लेकिन "कहते हैं कि अभिषेक है अंदाजेबयां और"...
    मगर एक बात नहीं समझ में आया.. इस पोस्ट का शीर्षक होना चाहिए था "सम मोस्ट इरिटेटिंग जर्नीज़"!! मगर कोई बात नहीं, दिल खुश हो गया, सारा सीन आँख के सामने आ गया!! जीते रहो!!

    ReplyDelete
  5. कुछ खास ही नहीं बेहद खास है तुम्हारा यात्रा-रिपोतार्ज .. मुस्कराहट रुक ही नहीं रही है ..क्या प्रार्थना करूँ तुम्हारे लिए..हाँ! इससे भी मजेदार वाकया होता रहे ताकि हमें भी मजा आये..

    ReplyDelete
  6. भाई असली जीवन ट्रेन के अन्दर ही है ! मै तो रोज जुड़ा हूँ और यात्राओ के समय और भी रोचक हो जाता है , जब कोई यह जान जाते है की मै लोको पायलट का कार्य करता हूँ ! तरह - तरह के प्रश्न और अजूबे आन्नद ! बेहद सुन्दर जी !

    ReplyDelete
  7. घुमक्कडी में वाकये तो ऐसे बहुत होते हैं पर तुम्हारी तरह याद नहीं रहते.:(.

    ReplyDelete
  8. अभिषेक जी आपके यात्रा-संस्मरण रोचक व जाने पहचाने से हैं । मैं भी साल में दो-तीन बार बैंगलोर जाती हूँ और हर बार नए कभी कभी कुछ खास अनुभव होते हैं । एक-दो लिखे भी हैं पर एक मैं भी यहाँ आपके साथ बाँट रही हूँ ।वैसे मुझे यात्रा करना कभी उबाऊ नही लगता लेकिन एक बार जब मैं बैंगलोर से ग्वालियर लौट रही थी ऐसा पहली बार हुआ जब पूरे कोच में एक भी हिन्दी-भाषी नही था । पूरे छत्तीस घंटे मैं या तो किताबें पढती रही या बच्चों से बातें करती रही । पर सबके बीच ऐसा करना भी कितना कठिन रहा होगा ।

    ReplyDelete
  9. अगली बार बंगलोर से जाते समय इस पक्ष का विशेष ध्यान रखा जायेगा। हमारे अनुभव बड़े रोचक होते हैं, अगली बार आप हमारे साथ चलियेगा, आपको अभी बहुत सीखना है श्रीमानजी।

    ReplyDelete
  10. @प्रवीण भैया..

    "अगली बार आप हमारे साथ चलियेगा, आपको अभी बहुत सीखना है श्रीमानजी।"

    आपकी ऐसी बातें बड़ी Doubtful होती हैं, मुझे बड़ा डर सा लगता है :P

    ReplyDelete
  11. प्रवीण जी के ब्लॉग से यहाँ तक पहुंचे ...कभी- कभी ऐसी यात्रायें भी होती है ....
    रोचक वर्णन !

    ReplyDelete
  12. रेल यात्रा संस्मरण समग्र -कब होगी विमोचित यह पुस्तक ? मुझे प्रतीक्षा रहेगी! :) सच्ची !

    ReplyDelete
  13. क्या बात है। यात्राओं के अनुभव तो हमेशा मजेदार होते हैं। :)

    ReplyDelete
  14. बढ़िया है :)

    ReplyDelete
आप सब का तहे दिल से शुक्रिया मेरे ब्लॉग पे आने के लिए और टिप्पणियां देने के लिए..कृपया जो कमी है मेरे इस ब्लॉग में मुझे बताएं..आपके सुझावों का इंतज़ार रहेगा...टिप्पणी देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद..शुक्रिया

Name

A Beautiful Day,17,Audio-Video,12,Ayaansh,3,Bachpan,1,Beautiful Winters,1,Birthdays,1,Blogging,1,Book-Fair,1,College Notes,10,Comments,3,Cycling,2,Delhi Diaries,4,Diary,101,Dobby,1,Durga Puja,1,Durga Puja in New Delhi,1,English Talks,1,Evening Diary,3,Family Notes,32,Flight Stories,1,Friendship Day,1,Good Times,1,Gulzar,3,Heros of India,3,Hobbies,1,Lockdown Diaries,10,My Poems,7,NightOut,3,Nikky,9,Nimisha,8,Nimisha Ki Shaadi,1,Nostalgic Memories,27,Patna Diaries,5,Photo-Gallery,14,Random,16,Togetherness,1,Train Notes,1,अकरम,6,अच्छी बातें,1,अच्छे लोग,11,अमृतसर यात्रा,2,अवि,2,आलेख,4,आशीष भारती,1,इंजीनियरिंग के वे दिन,7,इंटरनेट,2,ऋचा,9,कवितायेँ,7,कहानियां,1,कहानी,1,कार-प्रेम,2,किताबें,1,कुछ पुरानी यादें,24,कुछ पुरानी यादों के नशे में,29,कैफी आज़मी,2,कॉलेज,3,क्रिकेट,2,क्रिकेट वर्ल्ड कप,2,क्लूनी..पिएर्स और अर्नोल्ड,3,गज़ल,4,ग़ालिब,2,गाँव,1,गुलज़ार साहब,3,घूमना फिरना,10,चित्रगुप्त पूजा,1,छठ पूजा,1,जगजीत सिंह,2,जन्मदिन,4,जलियाँवाला बाग,1,टेक्नोलोजी,2,ट्रेन यात्रा,6,तुमसे बना मेरा जीवन,5,त्यौहार,4,दादाजी,1,दिल्ली,2,दिवाली,1,दीप्ति,4,दुर्गा पूजा,1,दोस्तों की दादागिरी,5,निमिषा,6,पटना,41,पन्द्रह अगस्त,2,परिवार,25,परिवार और मित्र,2,पापा-मम्मी,2,पुराने दिन,10,पेंटिंग,1,प्रभात,5,प्रशांत,2,प्रियंका दीदी,3,फराज़,1,फ़िल्मी बातें,4,फेसबुक,2,बच्चों की दुनिया,2,बहन की बातें,14,बेतरतीब ख्याल,28,बेमतलब-लोग,1,बैंगलोर,19,बैंगलोर डायरी,6,ब्लॉग-परिवार,6,ब्सवकल्याण,9,ब्सवकल्याण के किस्से,10,भगत सिंह,2,भगत सिंह के पत्र,1,भाई बहन,4,मती,2,मंदिर,3,मस्ती टाईम,13,माँ,1,माइक्रो पोस्ट,3,माही,1,मुराद,1,मेरा परिचय,1,मेरा शहर बैंगलोर,4,मेरी कविता,6,मेरी डायरी,100,मेरी बहन,12,मेरे अप्लोड्स,3,मेरे दोस्त,37,मेरे विचार,5,मोना,3,मोना की शादी,4,रिया,1,रीती,1,लखनऊ,1,लेखक,1,वरुण,1,संकलित-पत्र,1,सगाई,1,समित,4,सलिल चचा,1,सिंघौल,1,स्तुति,1,स्पोर्ट्स,2,हम-हिन्दी,2,हरिवंशराय बच्चन,1,हंसी-मजाक,3,हाइकू,1,हैदराबाद,2,हॉस्टल के दिन,1,
ltr
item
मेरी बातें : सम मोस्ट इरिटेटिंग जर्नीज़
सम मोस्ट इरिटेटिंग जर्नीज़
http://4.bp.blogspot.com/-UrwydJGVe1Y/T1BDoIHou6I/AAAAAAAAC-0/Fx6PAKi74qM/s200/cgon618l.jpg
http://4.bp.blogspot.com/-UrwydJGVe1Y/T1BDoIHou6I/AAAAAAAAC-0/Fx6PAKi74qM/s72-c/cgon618l.jpg
मेरी बातें
https://www.abhishek.cyou/2012/03/blog-post.html
https://www.abhishek.cyou/
https://www.abhishek.cyou/
https://www.abhishek.cyou/2012/03/blog-post.html
true
174319125135752653
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy Table of Content